क्या छूने पर भी कोई महिला आप पर बलात्कार का केस कर सकती है ? | Rape Definition | बलात्कार क्या है ? | Rape Meaning In Hindi | IPC 375 | IPC 376

हिंदी | Rape Definition | बलात्कार क्या है ? | Rape Meaning In Hindi | IPC 375 | IPC 376

रेप,बलात्कार या बलात्संग हमारे देश की अश्मिता के लिए एक बड़ी चुनौती है। क्योंकी जिस देश में महिलाओं को देवी  स्थान मिला हो और उन्हें पूज्यनीय माना जाता हो। उस देश में रेप या उससे जुडी घटनाओ का होना,और इतने बड़े पैमाने पर होना जितना की शायद ही किसी देश में होता हो देश को और अधिक शर्मशार कर देती हैं। और अन्य देशो को हमपर हसने का मौका देती है कि इनके देश में तो महिलायें भगवान् हैं। और ये भगवान के साथ ही बलात्कार कर देते हैं। तो इनके देश में तो भगवान् भी सुरक्षित नहीं हैं।

                                                                                          तो जब ऐसे लोग हमारे देश में मौजूद हैं। तो उनके लिए भारतीय दंड संहिता में कानून की व्यवस्था भी की गयी। जिसे धारा 375 की संज्ञा प्राप्त है। जो रेप की परिभाषा देता है। तथा बताता है।  की कब और किन परिस्थितयो में रेप लागू होगा।

 धारा 375 -बलात्संग — (A). किसी स्त्री की योनि, उसके मुंह , मूत्र मार्ग या गुदा में अपना लिंग किसी भी सीमा तक प्रवेश करता है या उससे ऐसा अपने या किसी अन्य व्यक्ति के साथ कराता है , या 

                                    (B). किसी स्त्री कि योनि, उसके मुँह, मूत्र मार्ग या गुदा में ऐसी कोई वस्तु या अपने शरीर का ऐसा कोई भाग जो लिंग न हो,किसी सीमा तक अनुप्रविष्ट करता है या उससे ऐसा अपने या किसी अन्य व्यक्ति के साथ कराता है , या  

                                         (C). किसी स्त्री के शरीर के किसी भाग का इस प्रकार हस्तसाधन करता है। जिससे की उस स्त्री की योनि ,गुदा या मूत्रमार्ग या शरीर के किसी भाग में लिंग प्रवेश किया जा सके या उससे ऐसा अपने या किसी अन्य व्यक्ति के साथ कराता है, या 

English | How To Avoid Bro Zone With A Girl | How To Escape Brother Zone | How To Get Out Of Bhaiya Zone | Aditya

                                       (D).किसी स्त्री कि योनि ,गुदा ,मूत्रमार्ग पर मुँह लगता है। या उससे ऐसा अपने या किसी अन्य के साथ कराता है ,

                                         तो उसके बारे में यह कहा जायेगा कि उसने बलात्संग किया है जहाँ ऐसा निम्नलिखित सात परिस्थितयों में से किसी के अधीन होता है :-

                                       (1).  उस स्त्री की इच्छा के विरुद्ध। 

                                       (2).  उस स्त्री की सम्मति के बिना। 

                                       (3).  उस स्त्री की सम्मति से, जब उसकी सम्मति उसे या ऐसे व्यक्ति को, जिससे वह हितबद्ध है ,मृत्यु या उपहति के भय में डालकर अभिप्राप्त की गयी है।  

                                      (4). उस स्त्री की सम्मति से,जबकि वह पुरुष यह जनता है कि वह उसका पति नहीं है और उसने सम्मति इस कारण दी है कि वह यह विश्वास करती है कि वह ऐसा अन्य पुरुष है जिसे वह विधिपूर्वक विवाहित है या विवाहित होने का विश्वाश रखती है। 

                                      (5). उस स्त्री की सम्मति से जब ऐसी सम्मति देने के समय ,वह विकृतचित्तता या मत्ताता के कारण या उस पुरुष द्वारा व्यक्तिगत रूप से या किसी अन्य के माध्यम से कोई संज्ञाशून्याकारी या अस्वास्थ्कर पदार्थ दिए जाने के कारण,उस बात की,  बारे में वह सम्मति देती है,प्रकृति और परिणामो को समझने में असमर्थ है। 

                                     (6). उस स्त्री की सम्मति या उसके बिना ,जब वह 18 वर्ष से काम आयु की है। 

                                     (7). जब वह स्त्री सम्मति  करने में असमर्थ है। 

ऐसी घटनाओं से निपटने के लिए IPC-376 में रेप की दोषसिद्धि होने सजा का प्रावधान किया गया।

 धारा 376  बलात्संग के लिए दंड- जिस पर भी बलात्संग का दोष गठित होगा,वह दोनों में से किसी भांति के कठोर कारावास से ,जिसकी अवधि 7 वर्ष से काम नहीं होगी किन्तु जो आजीवन कारावास तक की  जा सकेगी, दण्डित किया जायेगा और जुर्माने से भी दंडनीय होगा। 

 धारा 376(A). अगर बलात्संग के कारण  विकृतशीलता का शिकार हो जाती है अथवा उसकी मृत्यु हो जाती है तो ऐसी दशा में दोषी कम से काम 20 वर्ष की सजा जिसे आजीवन कारावास तक बढ़ाया जा सकेगा अथवा मृत्युदंड से दण्डित किया जा सकेगा।  

ऐसी सज़ाओं के प्रावधान के बाद भी भारत में ऐसी मानवता को शर्मसार करने वाली घटनाये रुक नहीं रही है। बल्कि और बढ़ रही है। यह बहुत ही चिंता का विषय है तथा हमे इसका हल मिलकर ही निकलना होगा।

हिंदी | Rape Definition | बलात्कार क्या है ? | Rape Meaning In Hindi | IPC 375 | IPC 376

धारा 377 क्या है ?|Dhara 377 kya Hai In Hindi | Homosexuality Legal | Dhara 377 | 377 | Homosexuality History | Homosexuality Legalised [हिंदी] | Aditya Philosophical 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *